Shiv Tandav Stotram X Har Har Shiv Shankar Neelkanth Lyrics Pdf Download

Shiv Tandav Stotram भगवान शिव की पूजा करने का एक शक्तिशाली स्तोत्र है तथा Har Har Shiv Shankar शिव जी का भजन है दोनों भजन को Mix करके Sachet & Parampara के द्वारा गाया गया है | जो की अभी trend में चल रहा है |

Shiv-Tandav-Stotram-X-Har-Har-Shiv-Shankar-by-Sachet-&-Parampara

Shiv Tandav Stotram X Har Har Shiv Shankar Lyrics को Hindi में लिखा गया है तथा इसका Pdf भी नीचे संलग्न किया गया है |

Click Here To Download Pdf

Shiv Tandav Stotram X Har Har Shiv Shankar Lyrics:

जटाट वीग लज्जल प्रवाह पावित स्थले |

गलेवलम्ब्य लम्बितां भुजंग तुंग मालिकाम् |

डम डूम डूम डूम निवाद वड्डमर्वयम् |

चकार चंड तांडवम् तनोतु नः शिवः शिवम् ||

हर हर शिव शंकर नीलकंठ गंगाधर |

आये शरणम् तिहारे |

ज्ञान ऐसो विशाल बैठे हो मृग ना छाये |

माथे चंद्र विराजे ||

Har har shiv shankar Neelkanth Gangadhar Lyrics को पूरा पढने के लिए नीचे स्कोल करें |

जटा कटा हंस भ्रम भ्रमन्नीलिंप निर्झरी |

विलोलवी चिवल्लरी विराजमान मुर्धनि |

धगद्ध गद्ध गज्ज्वलल्ललाट पट्टपावके |

किशोरचंद्र शेखरे रतिः प्रतिक्षणं ममं ||

shiv-tandav-stotram-x-har-har-shiv-shankar-lyrics
by Sachet & Parampara

Shiv Tandav Stotram X Har Har Shiv Shankar Lyrics In English:

Jataat veeg lajjal pravaah paathit sthale |

Galevalambya lambitam bhujang tung maalikaam |

Dam dum dum dum nivaad vaddamarvayam |

Chakaar chand tandavam tanotu nah shivah shivam ||

Har har shiv Shankar neelkanth gangadhar |

Aaye sharanam tihaare |

Gyan eso vishaal baithe ho mrig naa chhaaye |

Maathe Chandra viraaje ||

Jataa kataa hans bhram bhramnnilimp nirjhari |

Vilolavi chivllari virajmaan murdhani |

Dhagaddh gaddh gajjvalallalaat pattapaavake |

Kishorchandra shekhare ratih pratikshanam mamm ||

यहाँ पर जो पीडीऍफ़ नीचे दिया गया है वो Sachet और Parampara के द्वारा गाया गया Shiv Tandav Stotram X Har Har Shiv Shankar Neelkanth gangadhar Lyrics का Pdf संलग्न किया गया है |

Click Here To Download Pdf

Har Har Shiv Shankar Neelkanth Gangadhar Lyrics In Hindi:

यहाँ पर Har Har Shiv Shankar Lyrics अर्थात Har Har Shiv Shankar Nilkanth Gangadhar का full song Lyrics हिंदी में लिखा गया है |

हर हर शिव शंकर नीलकंठ गंगाधर |

आये शरणम् तिहारे |

ज्ञान ऐसो विशाल बैठे हो मृग ना छाये |

माथे चंद्र विराजे ||१||

शिव आदि मध अन्त जोगात जोगी शिव |

कनक विष अमी आदि विष भोगी |

नाभि के कमल ते तीन मूरत भई |

भिन्न जाने सोई नरक भोगी ||२||

*************X**************

जागो मोहन प्यारे तुम |

सावरी सूरत मोहे मन में भाये |

सुन्दर शाम हमारे तुम |

प्रातः समय उठी भानूदय भयो, ग्वाल बाल सब भूपति आये |

तुम्हरे दरस के भूखे प्यासे, उठी उठी नन्द किशोरे तुम ||३||

जागो जागो लाल मेरे संतन के प्यारे |

ग्वाल बाल कब ही ठाडे, दे हो दरस मन भाये |

भई भोर आँख खोल बीत गई सगरी रैन |

चंद्र वदन बिन देखे तरस लागे नैना प्यारे ||४||

जागो ब्रिज राज कुवर नन्द के दुलारे |

जमुना में गेंद डार ग्वाल बाल हारे |

काली बुभुकार देत शाम ही एक कारे ||५||

Leave a Comment